उजालों को क्या खबर… by @AmitPokes

उजालों को क्या खबर… कितना तेल, कितना सुत स्वाह हुवा…

प्रशांत होगा मन में अशांत… मुद्दत जो लड़ा मैं…
सबको था गर्व… कैसे पल में हवा हुवा…

मीठा बोला, सबने तोला… आगे खड़ा और लड़ा…
रास्ता दिखाया… पर फना हुवा…

तारीफ की सबने जब तक… शिखर की तरफ मुह ना हुवा…
उजालों को क्या खबर… कितना तेल, कितना सुत स्वाह हुवा…

जानता हूँ फैसला, पहले ही हो चूका… पर मन पूछेगा, क्यों यूँ तू, एकदम बेपरवाह हुवा
उजालों को क्या खबर… कितना तेल, कितना सुत स्वाह हुवा…

[tweetthis twitter_handles=”@AmitPokes, @_AamJanata”]उजालों को क्या खबर… कितना तेल, कितना सुत स्वाह हुवा… [/tweetthis]

godavar

I'm usually a poet, but my responses to current events and politics often take a more prosaic form. I am also curious about everything. Tell me something new.

2 thoughts on “उजालों को क्या खबर… by @AmitPokes

  1. I am so shocked. How in nine hells can Arvind write a book with vision on swaraj in whole of india when he does not have the guts to bring swaraj in his own party or even to stand up for it … fucking charlatan… hope I can ask back on my refund on donation just because i am so pissed off right now…

Leave a Reply

Your email address will not be published.